Raj Bhasha

 राजभाषा-हिंदी कार्यांवयन समिति की बैठक

 

दिनाँक 31- 03- 2017 को राजभाषा-हिंदी कार्यांवयन समिति की बैठक हुई। बैठक की अध्यक्षता प्राचार्य श्री संजय मिश्रा द्वारा की गई ।

पिछली बैठक में लिए गए निर्णयों पर चर्चा-- बैठक में सर्वप्रयम पिछली बैठक में लिए गए निर्णयों पर चर्चा हुई। आवश्कतानुरूप हिंदी भाषा में  कम्प्यूटर में टाइपिंग का काम किया  जा रहा है। हिंदी माह के दौरान विभिन्न हिंदी प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया । सभी कार्यक्रमों के निमंत्रण पत्र, ब्राशर सभी फार्म इत्यादि द्विभाषी छपवाए गए। हिंदी पत्राचार को बढ़ावा मिला है। प्रात:कालीन सभा में दोनों भाषाओं में शिक्षकों तथा विद्यार्थियों द्वारा कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए।

अनुवर्ती कार्रवाई

अनुवर्ती कार्रवाई की जाँच के बाद यह देखा गया कि सभी कार्यों में संतोषजनक बढ़ोतरी हुई है।प्राचार्य महोदय ने इस बात पर विशेष बल दिया कि राज- भाषा हिन्दी को पूर्ण सम्मान दिया जाना चाहिए| कार्यालय को निर्देश दिया गया है कि राजभाषा हिन्दी को ले कर किसी प्रकार की कोताही स्वीकार नही की जाएगी|

 निम्नलिखित बिंदुओं पर आगामी कार्यांवयन करने हेतु चर्चा :

1)      केन्द्रीय विद्यालय संगठन के निर्देशानुसार प्रार्थना-सभा काल मे भारत-माता की जय के नारे के साथ-साथ तिरंगे को सलामी दी जाएगी |

2)      प्रार्थना सभा काल में दोनों भाषाओं में कार्यक्रम प्रस्तुत किए जाऐँगे।

हिंदी भाषा में विभिन्न प्रतियोगिताएँ जैसे:  निबंध लेखन, भाषण , वाद-विवाद, सुलेख ,कविता वाचन, श्रुतलेख, हिन्दी गीत,दोहा,भजन आदि प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाएगा।विद्यालय में प्रयोग में लाए जा रहे सभी कंप्यूटर, द्विभाषी  रूप में प्रयोग में लाया  जा रहा है तथा सभी प्रकार के अवकाश से संबंधित प्रपत्र  द्विभाषी बनवाए गए हैं तथा उनको प्रयोग में लाया जा रहा है |

3)      विद्यालय में सभी कर्मचारियों को हिंदी से संबंधित कार्यसाधक ज्ञान प्राप्त है तथा सभी हिंदी भाषा के प्रचार-प्रसार में पूर्ण सहयोग दे रहे हैं।

4)      विद्यालय के सभी फार्म/उपस्थिति पंजिका ,अन्य पंजिका पुस्तिकाएँ , मानक मसौदे ,नामपट्ट, सूचनापट आदि का द्वीभाषीकरण किया जा चुका है अथवा किया जाएगा ।

5)      हिंदी पत्राचार को बढ़ावा देने के लिए प्राचार्य महोदय ने ऑफिस  को विशेष निर्देश दिए है तथा उसका अनुपालन किए जाने का पूरा प्रयास किया जा रहा है।

6)      प्राचार्य द्वारा  ज्ञापन , आदेश व अनुदेश प्रतिवेदन तया प्रेस विज्ञप्ति, बैठकों के कार्यवृत  आदि हिंदी भाषा में लिखे जाएँगे|

7)      कार्यालय द्वारा ज़ारी किए जाने वाले विज्ञापनों में व्यय की जाने वाली कुल राशि में से 50% राशि हिंदी  के विज्ञापनों पर खर्च किए जाएंगे व अन्य 50% राशि भारतीय भाषाओं व अंग्रेज़ी पर किए जाएं |

 

बैठक में उपस्थित सदस्य गण

1)   श्रीमती बिमला रावत            पी.जी.टी ‘हिंदी’

2) श्री हंसराज शर्मा               टी.जी.टी ‘संस्कृत’

3) श्री हर्षवर्धन                   टी.जी.टी. हिंदी

4) श्रीमती मीरा                  टी.जी टी हिंदी  

5) श्रीमती सुनीता                टी जी टी हिन्दी

6) श्री हरजीत राही               आफिस  सहायक

7) श्री रामस्वरूप                 प्रवर श्रेणी  लिपिक 

8) श्री मती आशा शर्मा                    अवर श्रेणी लिपिक                                       

 

प्राचार्य    

के. वि .3 बी .आर. डी

चंडीगढ़             

 

 

 

 

 

 

 

 

राजभाषा-हिंदी कार्यांवयन समिति की बैठक

 

दिनाँक 30-9 17 को राजभाषा-हिंदी कार्यांवयन समिति की बैठक हुई। बैठक की अध्यक्षता प्राचार्य श्री एस॰के॰ मिश्रा द्वारा की गई ।

पिछली बैठक में लिए गए निर्णयों पर चर्चा-- बैठक में सर्वप्रयम पिछली बैठक में लिए गए निर्णयों पर चर्चा हुई। सितंबर माह में हिन्दी पखवाड़े का आयोजन सफलतापूर्वक संपन्न किया गया|  |विदयालय पत्रिका के प्रकाशन का कार्य भी संपन्न किया गया |

अनुवर्ती कार्रवाई

अनुवर्ती कार्रवाई की जाँच के बाद यह देखा गया कि सभी कार्यों में संतोषजनक बढ़ोतरी हुई है।प्राचार्य महोदय ने इस बात पर विशेष बल दिया कि राज- भाषा हिन्दी में पत्राचार को बढा‌वा मिले। हिन्दी मेँ प्राप्त पत्रों का उत्तर हिन्दी मेँ देना अनिवार्य है|  

 निम्नलिखित बिंदुओं पर आगामी कार्यांवयन करने हेतु चर्चा :

1 ) सरकार की ओर से राजभाषा हिन्दी को विश्व पटल पर आसीन करने के प्रयास निरंतर जारी है| इस पुनीत कार्य को सफल बनाने के लिए हम सभी अध्यापकों का कर्तव्य है कि हम भी इस भाषा के प्रचार-प्रसार मेँ पूर्णत: सहयोग दें|

2 ) विद्यालय में प्रयोग में लाए जा रहे सभी कंप्युटर द्विभाषी  रूप में प्रयोग में लाया  जा रहा है तथा सभी प्रकार के अवकाश से संबंधित प्रपत्र  द्विभाषी बनवाए गए हैं तथा उनको प्रयोग में लाया जा रहा है।

3)विद्यालय में सभी कर्मचारियों को हिंदी से संबंधित कार्यसाधक ज्ञान प्राप्त है तथा सभी हिंदी भाषा के प्रचार-प्रसार में पूर्ण सहयोग दे रहे हैं।

4)विद्यालय के सभी फार्म/उपस्थिति पंजिका ,अन्य पंजिका पुस्तिकाएँ , मानक मसौदे ,नामपट्ट, सूचनापट आदि का द्वीभाषीकरण किया जा चुका है|

 

5)प्राचार्य द्वारा  ज्ञापन , आदेश व अनुदेश प्रतिवेदन तया प्रेस विज्ञप्ति, बैठकों के कार्यवृत आदि हिंदी भाषा में लिखे जाएँगे|

6) कार्यालय द्वारा ज़ारी किए जाने वाले विज्ञापनों में व्यय की जाने वाली कुल राशि में से 50% राशि हिंदी के विज्ञापनों पर खर्च किए जाएंगे व अन्य 50% राशि भारतीय भाषाओं व अंग्रेज़ी पर किएं जाएं |

7) सूचना व दूरसंचार तकनीक का हिन्दी-शिक्षण अधीगम प्रक्रिया में प्रभावी प्रयोग किया जाए |  

 

बैठक में उपस्थित सदस्य गण

1)      श्रीमती बिमला रावत            पी.जी.टी ‘हिंदी’

2)      श्री  हंसराज शर्मा               टी.जी.टी ‘संस्कृत’

3)      श्रीमती सुनीता                  टी.जी.टी  ‘हिंदी’

4)      श्री हर्षवर्धन                      टी.जी.टी. हिंदी

 5) श्रीमती मीरा                      टी.जी टी हिंदी  

     6) श्री हरजीत राही                 आफिस  सहायक

      7) श्री रामस्वरूप                   प्रवर श्रेणी  लिपिक 

       8) श्रीमती आशा शर्मा                         अवर श्रेणी लिपिक

 

                                       

प्राचार्य    

के. वि .3 बी .आर. डी

चंडीगढ़                        

 

 

 

 

 

 

हिंदी पखवाड़े का आयोजन

 

करते हैं तन-मन से वंदन, जन-गण-मन की अभिलाषा का

अभिनंदन अपनी संस्कृति का, आराधन अपनी भाषा का।

 

सरकारी कामकाज में राजभाषा के रूप में हिंदी के प्रति जागरूकता तथा इसके उत्तरोतर प्रयोग में गति लाने तथा हिंदी भाषा के प्रति अभिरुचि उत्पन्न करने के उद्देश्य से के.वि 3 बी आर डी में दिनाँक 01-9‌-2017 से 15-9-17 तक हिंदी पखवाड़े का आयोजन किया गया। हिंदी पखवाड़े के अंतर्गत विभिन्न हिंदी के कार्यक्रमों, प्रतियोगितायों के माध्यम से हिंदी का  प्रचार प्रसार किया गया।

विद्यार्थियों के लिए आशुभाषण, वादविवाद, निबंध लेख कविता पाठ, गीत, लेख, सुलेख,प्रश्नोत्तरी,श्लोक-गायन आदि प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया।

हिंदी में अभिरुचि उत्पन्न करने के लिए प्राचार्य द्वारा प्रार्यना सभा मे विद्यार्थियों व शिक्षकों से अपील ज़ारी किया गया। हिंदी के आगामी प्रयोग संबंधी निर्देशों में आने वाली कठिनाइयों पर भी इसमें विचार-विमर्श किया गया।

राजभाषा अधिनियम 1963 राजभाषा नियम 1976 राजभाषा संकल्प 1968 का राजभाषा विभाग द्वारा अन्य शिक्षकों को परिचित करवाया गया। इंटरनेट के माध्यम से कम्प्यूटर का अधिकाधिक हिंदी भाषा के लिए प्रयोग किया जाए, इस विषय पर चर्चा हुई। हिंदी पखवाड़े का समापन समारोह दिनाँक 20/9/17 को  मनाया गया, जिसमें प्राचार्य एस.के.मिश्रा जी ने विद्यार्थियों और शिक्षकों को सम्बोधित करते हुए हिंदी भाषा को विश्व की सबसे समृद्ध भाषा बताया।